LYRIC


Kholo Kholo Lyrics by Raman Mahadevan, music has been produced by Shankar Mahadevan, Ehsaan Noorani, Loy Mendonca, and Kholo Kholo song lyrics are penned down by Prasoon Joshi.

Kholo Kholo Lyrics

[Romanized]

Kholo kholo darwaaze
Parde karo kinaare
Khoonte se bandhi hai hawa
Mil ke chudaao sare

Aa jao patang le ke
Apne hi rang le ke
Aasman ka shaamiyana
Aaj hamnein hai sajaana

Kyun is kadar hairaan tu
Mausam ka hai mehmaan tu
O.. Duniya saji tere liye
Khud ko zaraz pehchan tu

Tu dhoop hai chham se bikhar
Tu hai nadi o bekbhar
Beh chal kahin
Ud chal kahin
Dil khush jahaan
Teri to manzil hai waheen…
Kyun is kadar hairaan tu
Mausam ka hai mehmaan tu

Baasi zindagi udaasi
Taazi hansne ko raazi
Garma garma saari
Abhi abhi hai utaari

Ho.. zindagi to hai batasha
Meethi meethi si hai asha
Chakh le rakh le hatheli se dhak le ise

Tujhmein agar pyaas hai
Barish ka ghar bhi paas hai
O.. Roke tujhe koi kyun bhala
Sang sang tere aakash hai

Tu dhoop hai chham se bikhar
Tu hai nadi o bekbhar
Beh chal kahin
Ud chal kahin
Dil khush jahaan
Teri to manzil hai waheen…

Khul gaya.. aasman ka raasta dekho khul gaya
Mil gaya.. kho gaya tha jo sitara mil gaya
Mil gaya..
Roshan huyi saari zameen
Jagmag hua saara jahaan
Ho.. udne ko tu aazad hai
Bandhan koi ab hai kahaan

Tu dhoop hai chham se bikhar
Tu hai nadi o bekbhar
Beh chal kahin
Ud chal kahin
Dil khush jahaan
Teri to manzil hai waheen…


[Hindi]

खोलो खोलो दरवाज़े
पर्दे करो किनारे
खुटे से बँधी है हवा
मिल के छुड़ाओ सारे

आ जाओ पतंग लेके
अपने ही रंग लेके
आसमान का शामियाना
आज हमें है सजना

क्यूँ इस कदर हैरान तू
मौसम का है मेहमान तू
दुनिया सजी तेरे लिए
खुद को ज़रा पहचान तू

तू धूप हैं झम से बिखर
तू है नदी ओ बेख़बर
बह चल कहीं उड़ चल कहीं
दिल खुश जहाँ तेरी तो मंज़िल है वहीं

क्यूँ इस कदर हैरान तू
मौसम का है मेहमान तू

बासी ज़िंदगी उदासी
ताज़ी हसने को राज़ी
गरमा गरम सारी
अभी अभी है उतारी

ओह ज़िंदगी तो हैं बताशा
मीठी मीठी सी है आशा
चख ले रख ले
हथेली से ढक ले इसे

तुझ में अगर प्यास है
बारिश का घर भी पास है
रोके तुझे कोई क्यों भला
संग संग तेरे आकाश है

तू धूप हैं झम से बिखर
तू है नदी ओ बेख़बर
बह चल कहीं उड़ चल कहीं
दिल खुश जहाँ तेरी तो मंज़िल है वहीं

क्यूँ इस कदर हैरान तू
मौसम का है मेहमान तू
खोलो खोलो दरवाज़े
पर्दे करो किनारे
खुटे से बँधी है हवा
मिल के छुड़ाओ सारे

आ जाओ पतंग लेके
अपने ही रंग लेके
आसमान का शामियाना
आज हमें है सजना

खुल गया आसमान का रास्ता देखो खुल गया
मिल गया खो गया था जो सितारा मिल गया

रोशन हुई सारी ज़मीन
जगमग हुआ सारा जहाँ
ओह उड़ने को तू आज़ाद है
बंधन कोई अब है कहाँ

तू धूप हैं झाम से बिखर
तू है नदी ओ बेख़बर
बह चल कहीं उड़ चल कहीं
दिल खुश जहाँ तेरी तो मंज़िल है वहीं


SONG INFO:

Song: Kholo Kholo
Singer: Raman Mahadevan
Music: Shankar Mahadevan, Ehsaan Noorani, Loy Mendonca
Lyrics: Prasoon Joshi



Added by

lyricsmin

SHARE

ADVERTISEMENT

VIDEO